अंबिकापुर न्यूज़: खाद्य मंत्री अमरजीत रहे कई कार्यक्रम में, मीटिंग और जन मुलाकात में: मछली नदी पुल उद्घाटन, मैनपाट दुर्गम क्षेत्रों स्वास्थ्य सुविधा, 34 हैण्डपंप खनन, जीवनदीप बैठक, मातृ वाटिका 48 कोरोना मरीजों का ईलाज जारी

  1. अम्बिकापुर : खाद्य मंत्री ने किया मछली नदी में पुल का उद्घाटन
  2. अम्बिकापुर  : मैनपाट के दुर्गम क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं की न हो कमी - मंत्री भगत
  3. मैनपाट विकासखण्ड में 34 हैण्डपंप खनन के निर्देश: जीवनदीप समिति की बैठक सम्पन्न
  4. अम्बिकापुर  : खाद्य मंत्री ने किया आदर्श मातृ वाटिका का स्थापना
  5. कोविड अस्पताल में अब 48 कोरोना संक्रमित मरीजों का ईलाज जारी
  6. अम्बिकापुर : सरगुजा जिले में अब तक 166.1 मिलीमीटर औसत वर्षा
  7. अम्बिकापुर : जिले के हैण्डपंपों में ब्लीचिंग के कार्य जोरों पर
  8. प्रशासन ने रोकवाया बाल विवाह: कलेक्टर संजीव कुमार झा

अम्बिकापुर : खाद्य मंत्री ने किया मछली नदी में पुल का उद्घाटन

अम्बिकापुर 24 जून 2020  छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत ने आज मैनपाट जनपद के टाईगर पाईंट के पास मछली नदी में पुल का उद्घाटन फीता काटकर किया। इस पुल सह सड़क का निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा करीब 80 लाख रूपए की लागत से किया गया है। इस अवसर पर कलेक्टर संजीव कुमार झा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुलदीप शर्मा, सहित जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि इस नदी में निर्मित पुल काफी पुराना होने के कारण क्षतिग्रस्त होकर टूट गया था जिसे लोक निर्माण विभाग द्वारा नया पुल बनया गया है। इस पुल के बन जाने से अब आवागमन सुगम होगी।

अम्बिकापुर  : मैनपाट के दुर्गम क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं की न हो कमी - मंत्री भगत
मैनपाट विकासखण्ड में 34 हैण्डपंप खनन के निर्देश: जीवनदीप समिति की बैठक सम्पन्न

      
अम्बिकापुर 24 जून 2020 छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत की अध्यक्षता में आज मैनपाट विकासखण्ड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नर्मदापुर में जीवनदीप समिति की सामान्य सभा के बैठक का आयोजन किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए मंत्री ने कहा कि आप सभी लोगों के जागरूकता और मेहनत की बदौलत हम कोरोना के फैलाव को रोकने में सफल हुए हैं। जिस तरह से पिछले साल हमारे क्षेत्र में बीमारी से किसी की मृत्यु नही हुई है उसी तरह से इस वर्ष भी लगन से मेहनत करें। दुर्गम क्षेत्रों में बरसात के मौसम में आवागम अवरूद्ध हो जाती है। इन क्षेत्रों में भी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी न हो। उन्होंने कहा कि आप सब का सामूहिक प्रयास रहना चाहिए कि हमारे वनांचल दूरस्थ क्षेत्र में किसी भी प्रकार की समस्या नही होना चाहिए। स्वास्थ्य विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग आदिवासी बस्तियों में जाकर लोगों को बरसात के मौसम में पुटू, खोखड़ी, हड़िया तथा बासी भोजन के प्रयोग में सावधानी रखने की सलाह दें। उन्हें बताएं कि इन सभी से डायरिया, पीलिया तथा

मौसमी बीमारी के संक्रमण का खतरा बना रहता है।
मंत्री भगत ने कहा कि लोगों को बताएं की ढोढ़ी के पानी पीने योग्य नही होता। इसलिए इस पानी नहीं पीना है। उन्होंने कहा कि पेयजल के स्रोतों में क्लोरीन के छिड़काव को प्राथमिकता के साथ किया जाए तथा दूरस्थ पहुंचविहीन गांवों में स्वास्थ्य सुविधा की पहुंच सुनिश्चित करें। पहुंचविहीन गांवो के लिए एम्बुलेंस तथा अन्य बाइक एम्बुलेंस आदि की व्यवस्था आवश्यक है। इस हेतु स्वास्थ्य अधिकारी अपनी व्यवस्था दुरुस्त रखें।
खाद्य मंत्री ने बैठक में उपस्थित सभी सरपंच-सचिवों से जानकारी लेकर उनके क्षेत्र के बकाया राशि के भुगतान करने के निर्देश जिला सीईओ को दिए। उन्होंने तत्काल पीएचई के एसडीओ को मैनपाट ब्लाक में 34 हैंडपंप स्वीकृत करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही कुछ ग्राम पंचायत में पुराने पीडीएस भवन, पंचायत भवन जर्जर हो चुके हैं उन्हें नया बनाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर संजीव कुमार झा ने कहा कि बरसात के इस मौसम में किसी भी व्यक्ति की चाहे वो बुजुर्ग हो, बच्चा हो, महिला हो मौसमी बीमारी से मृत्यु नही होना चाहिए। ढोढ़ी के पानी को न पीकर गरम पानी को छानकर पीना है। पहुंचविहीन गांवों तक सम्मानजनक स्वास्थ्य  व्यवस्था को पहुंचाना हमारा लक्ष्य होना चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्राम स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति को एक्टिवेट करें और मितानिन के पास पूरी किट की व्यवस्था करें। उन्होनंे कहा कि सर्प काटने का इलाज झाड़फूंक से नही करना है। सारे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में एन्टीवेनम दवा की व्यवस्था की गई है। सर्प काटने पर उन्हें तत्काल पास के स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाना है। सभी शासकीय कर्मचारियों को हेडक्वार्टर में रहना अनिवार्य है। कोई भी कर्मचारी निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाया जाता है तो उसे तत्काल बर्खास्त किया जाएगा। झा ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को पूर्व में ही दुर्गम क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाएं पहुचाने तथा लोगों को जागरूक करने आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। मौसमी बीमारियों के रोकथाम के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क है।

बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुलदीप शर्मा, अनुविभागीय दण्डाधिकारी सुदीपिका नेताम, सीएमएचओ डाॅ. पीएस सिसोदिया सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं सरपंच, सचिव उपस्थित थे।

अम्बिकापुर  : खाद्य मंत्री ने किया आदर्श मातृ वाटिका का स्थापना
      
अम्बिकापुर 24 जून 2020 छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत ने आज कृषि विज्ञान केंद्र मैनपाट के द्वारा जनजाति उपयोजनान्तर्गत अम्बिकापुर विकासखण्ड के ग्राम कुम्हरता में आदर्श मातृ वाटिका का स्थापना। इस आदर्श मातृ वाटिका में करीब 5 एकड़ के क्षेत्र में प्रवर्धन तथा विकास के लिए उच्च गुणवत्ता वाले 500 फलदार पौधे रोपित किया जाएगा। इस अवसर पर मंत्री ने कहा कि सभी ग्रामीण अपने खेत तथा बाड़ी में फलदार पौधे लगाएं और लाभ कमाएं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक समृद्धि लाने के लिए जल, जंगल और जमीन की अहमियत को ध्यान में रखते हुए इनकी सुरक्षा और संवर्धन जरूरी है। नरवा,गरवा, घुरूवा और बाड़ी योजना के द्वारा इन तीनों घटकों को समायोजित किया गया है। हमारे किसान समृद्ध होगें तभी देश का विकास होगा।

मंत्री भगत ने कहा कि कृषि विज्ञान केन्द्र में उन्नत प्रकार के बीज एवं पौधे तैयार किये जाते हैं तथा उनके रोपने से लेकर खाद के प्रयोग के सम्बध में भी जानकारी दी जाती है। आस-पास के किसान कृषि विज्ञान केन्द्र भ्रमण कर जानकारी प्राप्त करें और उन्नत खेती को बढ़ावा दें।

इस दौरान मंत्री भगत ने वृक्षारोपण कर लोगों को पेड़ लगाने के लिए प्ररित किया। इसके साथ ही कृषि विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत पांच कृषकों को स्पेयर पंप का वितरण किया गया।

इस अवसर पर ग्राम पंचायत कुम्हरता के सरपंच श्रीमती बबीता सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण मौजूद थे। 

कोविड अस्पताल में अब 48 कोरोना संक्रमित मरीजों का ईलाज जारी
     
अम्बिकापुर 24 जून 2020 मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी एवं अस्पताल अधीक्षक डॉ. पीएस सिसोदिया ने बताया है कि संभागीय कोविड अस्पताल अम्बिकापुर में 24 जून की स्थिति में सरगुजा जिले के 24 और बलरामपुर जिले के 24 मरीज कोविड अस्पताल अम्बिकापुर में भर्ती हैं जिनका उपचार जारी है। इन मरीजों में 6 महिला एवं 42 पुरूष शामिल हैं। अब तक कोविड अस्पताल में कुल 197 कोरोना मरीज भर्ती किये गए हैं जिनमें से 157 मरीज पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घर वापस लौट गए हैं। आज किसी भी मरीज का सैम्पल जांच हेतु नही भेजा गया है। भर्ती सभी मरीज एसिम्पटोमेटिक हैं। चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा मरीजों की सतत् निगरानी कर उपचार किया जा रहा है। मरीजों का बी.पी पल्स एवं ऑक्सीजन सेचूरेशन एवं अन्य वाईटल्स सामान्य है। 2 मरीज का उच्च रक्तचाप नियंत्रण में है तथा उन्हें स्पेशल डाइट दिया जा रहा है।

अम्बिकापुर : सरगुजा जिले में अब तक 166.1 मिलीमीटर औसत वर्षा

अम्बिकापुर 24 जून 2020 भू-अभिलेख कार्यालय अम्बिकापुर से प्राप्त जानकारी के अनुसार सरगुजा जिले में 24 जून 2020 की स्थिति में 166.1 मिलीमीटर औसत वर्षा हुई है। 24 जून को बतौली तहसील में 1.3 मिलीमीटर तथा मैनपाट तहसील में 4.2 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है। इस प्रकार सरगुजा जिले में 24 जून तक 166.1 मिलीमीटर औसत बारिश हुई है।

अम्बिकापुर : जिले के हैण्डपंपों में ब्लीचिंग के कार्य जोरों पर

अम्बिकापुर 24 जून 2020 कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देश पर बारिश के मौसम में दूषित पानी से मौसमी बीमारियों के रोकथाम के उपाय के तौर पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जिले के हैण्डपंपों में ब्लीचिंग के कार्य तीव्रगति से की जा रही है। अब तक 2 हजार 511 हैण्डपंपों में ब्लीचिंग के कार्य पूर्ण किया जा चुका है।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन अभियंता प्रदीप खलखों ने बताया है कि सभी जनपदों में हैण्डपंप तकनीशियनों एवं उनके हैल्पर के द्वारा ब्लीचिंग के कार्य किया जा रहा है। ब्लीचिंग कार्य कराने के बाद संबंधित ग्राम पंचायत से कार्य पूर्णतः का प्रमाण पत्र भी प्राप्त किया जा रहा है। उन्होंने बताया है कि जनपदों में 37 हैण्डपंप तकनीशियन पदस्थ हैं जिनके द्वारा गांव एवं बसाहटों में स्थापित हैण्डपंपो का ब्लीचिंग किया जा रहा है।

प्रशासन ने रोकवाया बाल विवाह: कलेक्टर संजीव कुमार झा
     
अम्बिकापुर 24 जून 2020 कलेक्टर संजीव कुमार झा के निर्देशानुसार महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा जिले में बाल विवाह रोकने अभियान चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में 23 जून को लुण्ड्रा विकासखण्ड के धौरपुर थाना अंतर्गत ग्राम जमोनी में बाल विवाह होने की सूचना पर जिला बाल संरक्षण इकाई सरगुजा, एकीकृत बाल विकास परियोजना लुण्ड्रा, चाईल्डलाईन अम्बिकापुर एवं पुलिस विभाग के सहयोग से विवाह स्थल पर जाकर बालिका के माता-पिता को समझाइस देकर बाल विवाह रोकवाया गया। उन्हें बालिका का विवाह 18 वर्ष की आयु पूर्ण होने के पश्चात ही करने कहा गया। बालिका के परिजनों द्वारा वर्तमान में विवाह नहीं करने एवं शासन द्वारा निर्धारित उम्र होने के बाद ही विवाह करने की सहमति दिए।

जिला कार्यक्रम अधिकारी ज्योति मिंज ने बताया कि टीम के द्वारा बालिका के परिवारजनों ग्रामीणों को बाल विवाह से होने वाले दुष्परिणामों के बारे में बताया गया तथा यह भी बताया गया कि बाल विवाह एक समाजिक बुराई है। बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 के तहत बाल विवाह कराने वाले सम्बधित लोगों को 2 वर्ष तक का कठोर कारावास अथवा 1 लाख रूपए तक जुर्माना हो सकता है अथवा दोनो से दण्डित किया जा सकता है।