5 अगस्त को करें गोबर विक्रेताओ की राशि का पहला भुगतान - मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल

5 अगस्त को करें गोबर विक्रेताओ की राशि का पहला भुगतान - मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल
मुख्य सचिव श्री आरपी मंडल ने वीसी के माध्यम से की गोधन न्याय योजना की समीक्षा

अम्बिकापुर भारत गुरुवार 30 जुलाई 2020: मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल ने आज चिप्स कार्यालय रायपुर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कमिश्नर , कलेक्टर , सीईओ एवं डीएफओ की बैठक लेकर गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अपर मुख्य सचिव वित्त श्री अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव गृह श्री सुब्रत साहु, प्रधान मुख्य वन संरक्षक श्री राकेश चतुर्वेदी, कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती एम गीता, प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री गौरव द्विवेदी, प्रमुख सचिव वन श्री मनोज पिंगुआ सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। मुख्य सचिव ने कहा कि गोधन न्याय योजना राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना है। प्रदेश की नजर इस योजना पर है। इसके क्रियान्वय में कोई चूक नही होनी चाहिए। यह कोई अभियान नही है कि एक बार मे पूरा हो जाएगा बल्कि 12 महीने चलने वाला कार्य है। इसलिए इसका एक सिस्टम तैयार करे और उसी सिस्टम से आगे बढ़े। श्री मंडल ने कहा कि गोठानो में गोबर बेचने वाले पशुपालको को 15 दिन में बेचे गए गोबर की राशि का पहला भुगतान 5 अगस्त को  किया जाएगा। इसकी पूरी तैयारी करें राशि भुगतान में एक भी गोबर विक्रेता नही छूटना चाहिए। उन्होंने कहा कि राशि गोबर विक्रेता के बैंक अकाऊंट में सीधे आनलाइन ट्रांसफर होगी। पहले गोठान समिति के बैंक खाते में जमा होगी उसके बाद गोबर विक्रेता के खाते में जमा होगी। गोठान समिति का बैंक खाता जिला सहकारी बैंक में होना अनिवार्य है जबकि गोबर विक्रेता का किसी भी बैंक में खाता हो सकता है।
मुख्य सचिव ने कहा कि अब तक जिन गोबर विक्रेताओं के खाता नही खुले है उनका खाता खुलवाएँ। गोबर विक्रेताओं का प्रतिदिन के डेटा ऑनलाईन एंट्री भी कराएं। गोबर खरीदी की निगरानी के लिए एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं जनपद सीईओ को गोठानो की जिमेदारी दें। उन्होंने कहा कि गोबर खरीदने में बाद वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए समूह की महिलाओं को प्रशिक्षण दिलाएं। वर्मी कम्पोस्ट को ब्रैंड छतीसगढ़ बनाने की दिशा में कार्य करें। गोठान में पीपल,बरगद,नीम जैसे छायादार पेड़ का रोपण करें।
श्री मंडल ने कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव एवं नियंत्रण की तैयारी के संबंध में कहा कि लोगों को कंटेनमेन्ट जोन के नियमों का पालन कराएं। मरीजों की बढ़ती संख्या के अनुसार जिले उपलब्ध शासकीय भवनों को कोविड सेन्टर के लिए चिन्हांकित कर तैयारी करें। स्वास्थ्य विभाग की सचिव श्रीमती निहारिका बारिक ने कहा कि 102 की सेवाएँ निरंतर जारी रहेगी यह बंद नही हो रही है। कोरोना से मृत मरीज का शव ले जाने के लिए यदि 102 उपलबध नही हो पाता है तो अन्य वाहन की व्यवस्था कराये।बिना लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेशन मे रखने के लये ट्रायल के आधार पर घर मे पर्याप्त व्यवस्था होने पर ही अनुमति दें। उन्होंने कहा कि सभी जिले प्रतिदिन कोरोना टेस्टिंग की संख्या बढ़ाएं।
कलेक्टर श्री संजीव कुमार झा ने बताया कि सरगुजा जिले के 85 गोठानो में गोबर की खरीदी की जा रही है। अब तक 752 पशुपालकों से 749 क्विंटल गोबर खरीदी की गई है। सभी गोठान समितियों का बैंक खाता जिला सहकारी बैंक में खुल गया है।सभी  गोबर विक्रेताओं का खाता एक-दो दिन में खुल जायेगा। सरगुजा जिले में गोबर विक्रेताओं को राशि भुगतान हेतु सभी तैयारी पूरी कर ली गई है।
वीडियो कांफ्रेंसिंग में अम्बिकापुर स्थित एनआईसी कक्ष से मुख्य वन संरक्षक श्री ए.बी.मिंज, जिला पंचायत के सीईओ श्री कुलदीप शर्मा, डीएफओ श्री पंकज कमल, नगर निगम आयुक्त श्री हरेश मण्डावी सहित अन्य अधिकारी जुड़े हुए थे।