छत्तीसगढ़ सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नड राज्य

छत्तीसगढ़ को मिला सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नड राज्य का राष्ट्रीय पुरस्कार सूचना | और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव श्री अमन कुमार सिंह और मार्कफेड के प्रबंध संचालक श्री दिनेश श्रीवास्तव ने लिया पुरस्कार - रायपुर, 19 दिसम्बर 2008 सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ ने फिर गौरवपूर्ण स्थान प्राप्त किया है। कम्प्यूटर सोसायटी ऑफ इंडिया एवं निहिलेंट, इंडिया द्वारा प्रतिवर्ष दिये जाने वाले ई-गवर्नेन्स अवार्ड में इस वर्ष छत्तीसगढ़ ने चार श्रेणियों में से तीन श्रेणियों में पुरस्कार प्राप्त किया है। छत्तीसगढ़ को यह पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नड राज्य,सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नड विभाग में खाद्य विभाग छत्तीसगढ़ एवं सर्वश्रेष्ठ ई-गवर्नड परियोजना में ई-प्रोक्योरमेंट परियोजना, छत्तीसगढ़ को प्रदान किया गया है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने इन पुरस्कारों के लिए सूचना प्रौद्योगिकी विभाग एवं चिप्स के अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि राज्य में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर पारदर्शिता से काम करते हुए समाज के अंतिम छोर के व्यक्ति तक सरकार की सेवा पहुंचाना है। विभाग इस क्षेत्र में अच्छा कार्य कर रहा है। नई दिल्ली में आयोजित एक गरिमामय समारोह में कम्प्यूटर सोसायटी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष प्रो. के. के. अग्रवाल ने यह पुरस्कार वितरित किए । छत्तीसगढ़ की ओर से सूचना और प्रौद्योगिकी विभाग के विशेष सचिव श्री अमन कुमार सिंह और राज्य नागरिक आपूर्ति निगम तथा राज्य विपणन संघ के प्रबंध संचालक श्री दिनेश श्रीवास्तव ने यह पुरस्कार प्राप्त किए। छत्तीसगढ़ राज्य ने यह पुरस्कार देश के उन्नत एवं बड़े राज्यों से प्रतिस्पर्धा करते हुए प्राप्त किये है। सर्वश्रेष्ठ राज्य की श्रेणी में विगत दो वर्षों से गुजरात को पुरस्कृत किया जा रहा था, इस वर्ष प्रारंभिक तौर पर पांच राज्यों, जिसमें कर्नाटक, केरल, गोवा, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ शामिल थे, का चयन किया गया था।

सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के विशेष सचिव श्री अमन सिंह ने बताया कि चिप्स के अध्यक्ष, सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के भारसाधक मंत्री एवं मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के नेतृत्व और मार्गदर्शन में राज्य ने ई-गवर्नेन्स के क्षेत्र में महती प्रगति प्राप्त की है। राज्य में चॉइस परियोजना के माध्यम से लाखों लोगों को सुविधा प्रदान कर दी गई है। यह परियोजना 6 जिलों में कार्य कर रही है तथा इसका शीध्र ही सभी जिलों में विस्तार कर लिया जायेगा। ई-प्रोक्योरमेंट में 2200 करोड़ का कार्य किया जा चुका है। भारत सरकार के सर्वेक्षण 2007 में राज्य आई टी के क्षेत्र में तीसरे स्थान पर घोषित किया गया है। राज्य में चिप्स द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में किये गये कामों को लगातार राष्ट्रीय और अंर्तराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा रहा है। यू एन डी पी द्वारा राज्य के मानव विकास प्रतिवेदन को पुरस्कृत किया गया है। पिछले चार माह में इंटरनेशनल ओपन सोर्स फोरम द्वारा चॉइस परियोजना को, भारत सरकार की ई-रेडिनेस सर्वे रिपोर्ट में राज्य का उपयोर्गकत्ताओं की श्रेणी में अग्रणी स्थान पर, इंटरनेशनल डेटा कार्पोरेशन के सर्वें में राज्य ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में तीसरे स्थान पर रखा गया है।

देश में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में कम्प्यूटर सोसायटी ऑफ इंडिया सबसे अधिक 30 हजार सदस्यों वाली एसोसियेशन है, जिसमें उद्योगपति, वैज्ञानिक, शिक्षाविद्, विभिन्न संस्थानों के प्रमुख सदस्य हैं। इस एसोसियेशन की 65 चैप्टर्स एवं 300 विद्यार्थी शाखाएं देश में हैं। यह संस्थान शिक्षा, ई-गवर्नेंस तथा तकनीक के अद्यतनीकरण पर कार्य करती है। निहिलेंट लेवल 5 प्रमाणीकृत विश्वस्तरीय संस्थान है, जो भारत, ब्रिटेन, अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका आदि देशों में सूचना प्रौद्योगिकी में गुणवत्ता एवं प्रबंधन के लिए कार्य कर रहा है। इस संस्था का प्रमुख उद्देश्य आमजन के लिए रणनीति, प्रक्रियाएं, तकनीकों का आधुनिकीकरण एवं सुलभ पहुंच के लिए कार्य करना है।