छत्तीसगढ़ में अब तक 582.4 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज

रायपुर 1 अगस्त 2021: राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक 1 जून 2021 से अब तक राज्य में 582.4 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में 01 जून से आज 1 अगस्त तक रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार कोरबा जिले में सर्वाधिक 892.2 मिमी और बालोद जिले में सबसे कम 419 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गयी है। 

आज सर्वाधिक छुरा तहसील में, गरियाबंद न्यूज़: जिले में औसत वर्षा 205 मि.मी. दर्ज की गई: वर्षा न्यूज़

 वर्षा न्यूज़ गरियाबंद 22 जून 2020 गरियाबंद जिले में चालू मानसून सत्र में गत 01 जून से 22 जून 2020 तक औसत वर्षा 205.1 मि.मी. दर्ज की गई है।

भू-अभिलेख शाखा गरियाबंद से प्राप्त वर्षा न्यूज़ जानकारी के अनुसार 22 जून तक की स्थिति में सर्वाधिक औसत वर्षा छुरा तहसील में 252.1 मि.मी. दर्ज की गई है।

इसी प्रकार छत्तीसगढ़ वर्षा न्यूज़ आंकड़ों के अनुसार मैनपुर तहसील में 241.6 मि.मी., देवभोग तहसील में 192.1 मि.मी. और राजिम तहसील में 151.4 मि.मी. वर्षा दर्ज की गई है।

कवर्धा: कबीरधाम जिले में 16 जून को औसत वर्षा 17.7 मिली मीटर दर्ज, महासमुंद अब तक 99.2 मि.मी. की औसत बारिश दर्ज

महासमुंद 16 जून 2020 महासमुंद जिले में अब तक 99.2 मि.मी. औसत बारिश दर्ज की गई है। भू-अभिलेख कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार जिले में आज 16 जून 2020 को 1.7 मिमी की औसत वर्षा दर्ज की गई। जिले के पाॅचों तहसीलवार वर्षा में महासमुंद तहसील में 1.0 मि.मी., पिथौरा तहसील में 1.0 मि.मी., मि.मी, बसना तहसील में 2.0 मि.मी एवं सरायपाली तहसील में 4.6 मि.मी. बारिश दर्ज की गई है।  

खरीफ कृषि आदान व्यवस्था बारिश पूर्व समीक्षा

खेती किसानी मानसून पर सरकारी तैय्यारी - सोसायटी स्तर पर बारिश के पहले सुनिश्चित करें खाद-बीज का पर्याप्त भण्डारण : डॉ. रमन सिंह

स्वाइल हेल्थ कार्ड की अनुशंसा के अनुसार हो उर्वरकों का उपयोग

किसानों को शून्य ब्याज दर पर अब तक वितरित किया गया 1407 करोड़ रूपए का अल्पकालीन कृषि ऋण 

मुख्यमंत्री ने की खरीफ कृषि आदान व्यवस्था की समीक्षा 

नारायणपुर में खुलेगा नवीन कृषि महाविद्यालय और राजनांदगांव में नवीन वेटनरी पॉलिटेक्निक 

प्रधानमंत्री कृषि बीमा योजना में कुल कृषि क्षेत्र का 49 प्रतिशत क्षेत्र शामिल

आया मानसून, होगी जल्दी बारिश, करें तैयारी

मानसून के जल्द आने का अनुमान : किसानों को खरीफ मौसम की खेती के लिए जरूरी प्रारंभिक तैयारी करने की सलाह : खाद-बीज की अग्रिम व्यवस्था करने से समय पर बोनी करने में होती है सहूलियत
रबी फसलों के कच्चे अवशेषों को खेतों की जोताई कर जमीन में दबाने का सुझाव

छत्तीसगढ़ मानसून बारिश

धान की कम अवधि की किस्में ही लगाएं किसान
छत्‍तीसगढ़ रायपुर, 02 जुलाई 2009 - छत्तीसगढ़ में मानसून की बारिश होते ही खेतों में बीज बोवाई का काम शुरू हो गया है। प्रदेश की प्रमुख फसल धान की खुर्रा बोनी के साथ-साथ रोपा पध्दति और मेडागास्कर विधि से खेती के लिए किसानों ने नर्सरी लगाना भी शुरू कर दिया है।

मानसून में देरी और वर्षा की अनिश्चित्ता को ध्यान में रखते हुए कृषि विभाग के अधिकारियों ने किसानों को किसी भी स्थिति में लंबी अवधि की धान की किस्में जैसे-स्वर्णा, एम.टी.यू.-1001, मासूरी आदि नहीं लगाने की सलाह दी है।

प्रदेश में 36 मिलीमीटर औसत वर्षा

रायपुर, 28 जून 2009 - प्रदेश में चालू मानसून सत्र में एक जून से लेकर 27 जून तक 36 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है। राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि एक जून से 27 जून तक प्रदेश के कोरिया जिले में 34.5 मिलीमीटर, सरगुजा जिले में 21 मिलीमीटर, जशपुर जिले में 12.9 मिलीमीटर, रायगढ़ जिले में 8.8 मिलीमीटर, महासमुंद जिले में 32.5 मिलीमीटर और रायपुर जिले में 26.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है।